सोशल डिस्टेंसिंग’ नही ‘फिजिकल डिस्टेंसिंग’ शब्द का इस्तेमाल कीजिए

 

‘सोशल डिस्टेंसिंग’ नही ‘फिजिकल डिस्टेंसिंग’ शब्द का इस्तेमाल कीजिए

‘सोशल डिस्टेंसिंग’ शब्द गलत है समाज विज्ञानियों और डब्ल्यूएचओ का मानना है कि कोरोना वायरस के चलते एक-दूसरे से दूर रहने को ‘सोशल डिस्टेंसिंग’ कहने से लोगों में गलत संदेश जा रहा है …….डब्ल्यूएचओ ने भी अपनी प्रेस रिलीज में सोशल डिस्टेंसिंग की जगह फिजिकल डिस्टेंसिंग शब्द इस्तेमाल करने की बात कही है.डब्ल्यूएचओ के डायरेक्टर जनरल अपने ट्वीट में भी फिजिकल डिस्टेंसिंग ही लिख रहे हैं

एक प्रेस रिलीज में डब्ल्यूएचओ की महामारी विशेषज्ञ मारिया वान करखोव के हवाले से कहा गया है कि ‘सोशल कनेक्शन के लिए जरूरी नहीं है कि लोग एक ही जगह पर हों, वे तकनीक के जरिए भी जुड़े रह सकते हैं. इसीलिए हमने इस शब्द में बदलाव किया है ताकि लोग यह समझें कि उन्हें एक-दूसरे से संपर्क तोड़ने की नहीं बल्कि केवल शारीरिक तौर पर दूर रहने की जरूरत है.’

लेकिन उसके बावजूद भारत में सोशल डिस्टेंसिंग शब्द का इस्तेमाल धड़ल्ले से किया जा रहा है और लॉ इंफोर्समेंट एजेंसियों द्वारा इसे ध्येय वाक्य मानकर बैठ गई है

समाज वैज्ञानिकों का कहना है कि महामारी में सर्वाइव करना है तो लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग के बजाय अपने सामाजिक संबंध मजबूत रखने होंगे. अमेरिका की नॉर्थईस्टर्न यूनिवर्सिटी में पॉलिटिकल साइंस और पब्लिक पॉलिसी के प्रोफेसर डेनियल अल्ड्रिच शुरू से ही ‘सोशल डिस्टेंसिंग’ शब्द के इस्तेमाल पर ऐतराज जताते रहे हैं. अपने शोधपत्र में प्रोफेसर डेनियल अल्ड्रिच ने युद्ध, आपदा और महामारियों से उबरने में सामाजिक संबंधों की भूमिका पर एक शोध किया है उनका कहना है कि ‘आपातकाल में उन लोगों के बचने की संभावना ज्यादा होती है जो सामाजिक तौर पर सक्रिय होते हैं. इस पत्र में कहा गया है कि बचने वालों में से एक बड़े तबके का कहना था कि वे इसलिए बचे क्योंकि किसी ने सही वक्त पर आकर उनके दरवाजे पर दस्तक दी या फिर समय रहते उन्हें फोन कर चेता दिया. यानी कि इस तरह के लोगों को जल्दी और आसानी से मदद मिल सकती है.

कड़वा सच तो यह भी है कि अधिक जनसंख्या घनत्व वाले इलाकों में सोशल डिस्टेंसिंग की बात करना दिवास्वप्न है जहाँ 1 कमरे 8 लोग रहते हो एक ही टॉयलेट इस्तेमाल करते हो वहाँ सोशल डिस्टेंसिंग सिर्फ छलावा है

दरसअल सोशल डिस्टेंसिंग ‘एकला चलो रे’ सरीखा गलत संदेश देता है यह यह सामुदायिक तौर पर कट कर रहने की सलाह देता है यदि आपको यदि इस्तेमाल करना ही था तो आप ‘फिजिकल डिस्टेंसिंग’ का भी इस्तेमाल कर सकते थे, राजनीतिज्ञों ने भी इस बारे में बोलना शुरू कर दिया है छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल ने कहा है कि कोरोना से लड़ने के लिए ‘सोशल डिस्टेंसिंग’ की बजाए ‘फिजिकल डिस्टेंसिंग’ शब्द पर जोर दिया जाए

दरअसल सोशल डिस्टेंसिंग शब्द आगे चलकर खतरनाक परिणाम देगा, और यह आगे चलकर सामाजिक ढांचे के धराशायी होने की वजह बन सकता है.

मीडिया सोशल डिस्टेंसिंग का धड़ल्ले से इस्तेमाल कर रहा है, ओर अभी से इस शब्द के इस्तेमाल से समुदायों के बीच घृणा का वातावरण सृजित हो गया है, यह शब्द भाईचारा जैसे शब्द के विलोम शब्द के जैसे प्रयोग में लाए जा रहे है, आगे चलकर हमे इस शब्द के प्रयोग के लिए जरूर अफसोस महसूस होगा…….
Girish Malviya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *