सोनिया जी की सलाह : मानना मुश्किल है

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को दिए गए सोनिया गांधी के पांच सुझावों पर द टेलीग्राफ की खबर का शीर्षक है, “सोनिया की सलाह : मानना मुश्किल है” (Hard to Gulp : Sonia’s tips)। इसमें संजय के झा ने लिखा है, देश जब महामारी और अर्थव्यवस्था पर उसके प्रभाव से जूझ रहा है वैसे समय में सोनिया के प्रस्ताव भले ही न्यायोचित लग रहे हैं पर कांग्रेस प्रमुख की मांग बहुत सोच समझकर मोदी पर किया गया राजनीतिक हमला है। उनकी निजी शक्तियों पर जोर का प्रहार है। उन प्रिय परियोजनाओं पर और राजनीतिक उद्देश्यों से तैयार किए गए दलीय उपायों पर भी। इस बात की संभावना कम है कि प्रधानमंत्री इन सुझावों को मानेंगे। मीडिया का एक बड़ा वर्ग मोदी की शक्ति का सबसे बड़ा स्तंभ है। कांग्रेस के संचार प्रमुख रणदीप सुरजेवाला ने मंगलवार को कहा कि गुजरे पांच वर्षों में मोदी की निजी छवि बनाने पर 4000 करोड़ रुपए खर्च किए गए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *